‘भोजपुरी साहित्य में महिला रचनाकारन के भूमिका’ पर परिचर्चा का आयोजन

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस की पूर्व संध्या पर काशी हिंदू विश्वविद्यालय के ‘भोजपुरी अध्ययन केंद्र’ कला संकाय के राहुल सभागार में केंद्र के समन्वयक प्रो० श्रीप्रकाश शुक्ल जी की अध्यक्षता में भोजपुरी पुस्तक ‘भोजपुरी साहित्य में महिला राचनाकारन के भूमिका’ नामक पुस्तक के लोकार्पण व सह परिचर्चा का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन शोध संवाद समूह व सर्व भाषा ट्रष्ट नई दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में किया गया था। सर्वप्रथम कार्यक्रम का सुभारम्भ प्रेरणास्रोत…

"‘भोजपुरी साहित्य में महिला रचनाकारन के भूमिका’ पर परिचर्चा का आयोजन"

भव्यता से मनाया गया सर्व भाषा ट्रस्ट का दूसरा वार्षिकोत्सव

भाषा, साहित्य, कला और संस्कृति के संरक्षण-संवर्धन के लिए समर्पित संस्था सर्व भाषा ट्रस्ट का दूसरा वार्षिकोत्सव बड़े ही भव्य तरीके से गांधी शांति प्रतिष्ठान में आयोजित किया गया। वार्षिकोत्सव में देश के विभिन्न अंचलों से लगभग 24 भाषाओं के साहित्यकारों, भाषाविदों, चित्रकारों व अन्य विभूतियों को सम्मानित किया गया। वार्षिकोत्सव में बतौर मुख्य अतिथि महामंडलेश्वर मार्तण्ड पुरी ने अपने वक्तव्य में कहा किसाहित्य संन्यास होता है और साहित्यकार संन्यासी। साहित्यकार राग-दोष से मुक्त समाज…

"भव्यता से मनाया गया सर्व भाषा ट्रस्ट का दूसरा वार्षिकोत्सव"

हिन्दी में आदिवासी लेखन का परिदृश्य

संस्कृत के काव्यशास्त्रीय प्रतिमानों से होते हुए मुक्त छंद में रच बस चुकी हिन्दी कविता आज भी अपने कला-रूप  को लंेकर सजग है। आज भी दलित लेखकों की प्रभावी कविता को वह जगह नहीं मिली जिसकी वह हकदार है। बिम्ब, प्रतीक, वाग्मिता, छंद-लय की माँग आज भी हिन्दी  कविता में अपेक्षित है। किन्तु हिन्दी के वर्तमान पर विमर्शात्मक विविध स्वरों की दस्तक हो चुकी है। दलित चिंतन को आधार बनाकर लिखने वाले कवियों ने स्वतंत्रता,…

"हिन्दी में आदिवासी लेखन का परिदृश्य"

माँ

थके हारे तन मन को गोदी में लिटा सहला दूँ l माँ ! आ , आज लोरी गाकर तुझे , मैं सुला दूँ l तेरी चिन्ता ,दुख – सुख काँधे का बोझ अपने काँधों पे उठा लूँ आ , तुझे मैं सुला दूँ l सुनती नहीं बिल्कुल भी करती अपने मन की डाँट लगा चुप करा दूँ आ ! तुझे मैं सुला दूँ l तेरे चेहरे की झुर्री को काँपती धुरी को जीवन बिन्दु से…

"माँ"

जब बात और लगेगी

दिल को जब बात और लगेगी तब उधर भी  रात और लगेगी तुम समझते रहे बस खेल जिसे वो सारी  मुलाक़ात और लगेगी मुकम्मल होगी गर तेरी कोशिश तो मेरी भी शुरुआत और लगेगी चाँदनी मुखड़े से होती मीठी बातें तो सारी बिखरी खैरात और लगेगी रख दो जो जुल्फों को काँधे पर तो  तारों की बारात और लगेगी …………… सलिल सरोज कार्यकारी अधिकारी लोक सभा सचिवालय संसद भवन

"जब बात और लगेगी"

तम्बाकू निषेध से जागरूकता लाने का प्रयास करें

  तम्बाकू सेवन से जन्मे अनेक रोगों से बचने हेतु सलाह दी जाना चाहिए । एक जानकारी के मुताबिक बढ़ती लत कारण मुख केंसर के मरीजो की संख्या  देश मे लगभग ५० लाख है |घातक रसायन निकोटिन तम्बाकू  मे पाया जाता है| स्वैच्छिक संगठन एवं सामाजिक संस्थाए  तम्बाकू निषेध दिवस (३१-मई ) पर अपना राग अलापते शायद थक सी गई है | आज भी स्थितिया वेसी ही बनी हुई है।व्यसन मुख्य  परामर्श केंद्र भी जागरूकता लाने  का प्रयत्न कर रही है…

"तम्बाकू निषेध से जागरूकता लाने का प्रयास करें"

आन बान शान भरा तिरंगा है ज़िन्दगी

सूर्या अपार्टमेंट मैनेजिंग कमेटी व सर्व भाषा ट्रस्ट के संयुक्त तत्वावधान में गत दिनों सूर्या अपार्टमेंट, द्वारका सेक्टर-6 में स्वतंत्रता दिवस कवि सम्मेलन सह पुस्तक लोकार्पण का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री रणधीर सिंह जी थे जबकि अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार श्री अशोक लव ने किया। कार्यक्रम में श्री इंदर मोहन खन्ना व श्री ए के मलिक विशिष्ट अतिथि थे। उपर्युक्त कार्यक्रम की शुरुआत अतिथियों के दीप प्रज्ज्वलन व कवि-संगीतकार-गायक श्री सुनील अग्रहरि…

"आन बान शान भरा तिरंगा है ज़िन्दगी"

‘रूह की आवाज़’ पुस्तक का लोकार्पण

द्वारका (दिल्ली)। भाषा, साहित्य, कला और संस्कृति के संवर्धन-संरक्षण के लिए समर्पित संस्था ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा कवयित्री केशी गुप्ता की प्रथम काव्य-कृति ‘रूह की आवाज़’ के लोकार्पण का कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पूर्व राज्यपाल सैयद सिब्ते रज़ी थे, जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार व सर्व भाषा ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री अशोक लव ने किया। बताते चलें कि द्वारका स्थित जैन मंदिर के सभागार में केशी गुप्ता की प्रथम…

"‘रूह की आवाज़’ पुस्तक का लोकार्पण"

जोर-शोर से उठी भोजपुरी के संवैधानिक मान्‍यता की मांग

भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग एक बार फिर बहुत जोर-शोर से उठाई गई है । अवसर था इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में विश्व भोजपुरी सम्मेलन व भोजपुरी समाज दिल्‍ली के संयुक्त तत्वावधान में अंतरराष्‍ट्रीय मातृ भाषा दिवस के अवसर पर आयोजित ‘भोजपुरी हमार माँ – मनन, मंथन और मंतव्‍य’ विषयक विचार गोष्‍ठी का। मुख्य अतिथि श्री हरिवंश, उपसभापति राज्यसभा,कार्यक्रम के मुख्य अतिथि व राज्यसभा के उप सभापति श्री हरिवंश ने…

"जोर-शोर से उठी भोजपुरी के संवैधानिक मान्‍यता की मांग"

‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा  जम्मू में ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन  

       भाषा, साहित्य, कला और संस्कृति के संरक्षण-संवर्धन के लिए तत्पर ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ दिल्ली द्वारा 09 फरवरी को के एल सहगल हॉल, जम्मू में डोगरी साहित्यकारों के सम्मान में  ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन किया गया। बताते चलें कि 09 फरवरी को के एल सहगल हॉल, जम्मू में डोगरी साहित्यकारों के सम्मान में  ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन किया गया। उक्त अवसर पर डॉ दरख्शां अंद्राबी, चेयरपर्सन केंद्रीय…

"‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा  जम्मू में ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन  "