उनके जैसा जगत में

सुख में दुःख में जो सदा, रखते रहते टेव।
आते उनके रूप में, धरा-धाम पर देव।।

नफ़रत हैं जो घोलते, दो लोगों के बीच।
उनके जैसा जगत में, नहिं है कोई नीच।।

मधुर-मधुर सी बात कर, चलते टेढ़ी चाल।
उनके जैसा जगत में, नहिं कोई कंगाल।।

बीच सभा में दे नहीं, जो खुद को सम्मान।
उनके जैसा जगत में, नहीं अधम इनसान।।
**
केशव मोहन पाण्डेय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *