माँ! माँ है

माँ !
माँ है
उसके सिवाय
दुनिया में क्या है?
——-
– केशव मोहन पाण्डेय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *