‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ का प्रथम वार्षिकोत्सव सम्पन्न

भाषा, साहित्य, कला और संस्कृति के संरक्षण-संवर्धन के लिए समर्पित संस्था सर्व भाषा ट्रस्ट द्वारा दिल्ली के साहित्य अकादमी सभागार में प्रथम वार्षिकोत्सव का आयोजन किया गया।अपने स्वागत भाषण में सर्व भाषा ट्रस्ट की परिकल्पना और उसकी योजनाओं पर अध्यक्ष अशोक लव ने विस्तार से चर्चा की। उन्होंने आगामी योजनाओं की भी चर्चा की। सचिव रीता मिश्रा व समन्वयक केशव मोहन पाण्डेय ने वार्षिक रिपोर्ट पढ़ी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री अजीत दुबे जी ने भाषाओं की महत्ता बताते हुए सर्व भाषा की कार्य-योजनाओं की सराहना की।

कार्यक्रम की शुरुआत देश की युवा ओडिसी नृत्यांगना सुश्री मेघना बारीक के मंगलाचरण नृत्य से हुआ। इस आयोजन में पुस्तक लोकार्पण का भी कार्यक्रम था जिसमें सबसे पहले ‘सर्व भाषा’ पत्रिका के तीसरे अंक का लोकार्पण हुआ, तत्पश्चात डोगरी व हिंदी के साहित्यकार यशपाल निर्मल की डोगरी पुस्तक ‘डोगरी लोक कत्था ते मानवीकरण’ का लोकार्पण हुआ। लोकार्पण के क्रम में मधु त्यागी की पुस्तक ‘स्पंदन’, शालिनी शर्मा की पुस्तक ‘श्रीजीता’, सर्व भाषा ट्रस्ट के अध्यक्ष अशोक लव की व्याकरण की दो पुस्तकों तथा राजीव पाण्डेय की पुस्तक ‘शब्दांजलि’ का लोकार्पण हुआ।
इस वार्षिकोत्सव में श्री ओ पी मोहन व श्री अजीत दुबे को लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा गया। विशिष्ट अतिथिगणों डॉ. वेदप्रकाश पाण्डेय, अशोक श्रीवास्तव, सुनील सिन्हा, राजेश भंडारी ‘बाबु’ आदि को ‘गेस्ट ऑफ ऑनर’ दिया गया। उक्त कार्यक्रम में देश के 32 साहित्यकारों (प्रतीक द्विवेदी, रामकुमार गुप्त, राम गौतम, अरुणिश अंकित ‘गुलमोहर’, मनोज कुमार ‘मंजू’, लज्जराम राघव ‘तरुण’, सुवर्णा जाधव, जितेंद्र यती ‘अच्युत’, शशि श्रीवास्तव, नीलू सिन्हा, रत्ना पांडे, अंकुर मिश्र, डाॅ. टी. रवीन्द्रन, प्रो. हरप्रीत सिंह, मधु त्यागी, मधु गोयल, संज्ञा श्रीवास्तव, डाॅ. छतरसिंह वर्मा, भुवन बिष्ट, पूनम मिश्र, डाॅ. मोनिका देवी, ज्ञानप्रकाश ‘पीयूष’, राजेश भंडारी ‘बाबु’, चेतन आनन्द, डाॅ. राजेश खुशदिल, राजेन्द्र निगम ‘राज’, डाॅ. जयप्रकाश मिश्र, भगत राम मंडोत्रा, अपराजिता अनामिका, कमला शर्मा कमल, प्रभा शर्मा व कु. आफरीन) को उनकी प्रथम प्रकाशित हिंदी पुस्तक के लिए ‘सूर्यकांत त्रिपाठी निराला साहित्य सम्मान 2018, दिया गया।

‘सर्व भाषा’ पत्रिका से 26 साहित्यकारों (डाॅ. मनोज तिवारी, रितिका शर्मा, प्रदीप पाण्डेय, डॉ रामरक्षा मिश्र विमल, गुलरेज़ शहजाद, राजकुमार श्रेष्ठ, डाॅ. सरोज कुमार त्रिपाठी, आशा पाण्डेय ओझा, नीलम पाण्डेय ‘नील’, प्रदीप कुमार दाश ‘दीपक’, मंजू भट्टाचार्य, रक्षित दवे, जलज कुमार अनुपम, एस. पी. मिश्र, जयशंकर प्रसाद द्विवेदी, राजकुमार अनुरागी, चिराग दुआ, आलोक कुमार तिवारी, अजीत आज़ाद, डाकोर कल्याणी लिंगराम, मनदीप गिल धड़ाक, डॉ विवेक पाण्डेय, राजीव उपाध्याय, नवीन पांडेय व डॉ सुमन सिंह) को उनके संपादन-सहयोग के लिए ‘सर्व भाषा सम्मान 2018’ दिया। कार्यक्रम में ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ के सदस्यों को सदस्यता सम्मान-पत्र भी दिया गया।


कार्यक्रम का संचालन तरुणा पुंडीर, इंदु मिश्र ‘ किरण’, सुरभि मेंदीरत्ता, पूजा कौशिक, मधु त्यागी, श्वेता, आभा जैन, केशी गुप्ता, जलज कुमार अनुपम डॉ मनोज तिवारी, भावना मिलन अरोड़ा आदि ने मंच और मंच-परे, हर रूप में सुचारू ढंग से किया।


कार्यक्रम के अंतिम सत्र में भव्य कवि-सम्मेलन का आयोजन हुआ। कवि-सम्मलेन में देश भर से अनेक भाषा के कवियों ने अपनी रचनाएँ सुनाईं। अंत में सर्व भाषा ट्रस्ट के समन्वयक केशव मोहन पाण्डेय ने अपने प्रायोजकों – हर्फ़ प्रकाशन, हैमन्स एंड ओरिजिन्स रेमिडी, मेलवेल सोलुशन, आशा हर्बल आयल तथा द्वारका परिचय के साथ देश के कोने-कोने से आये सहित्यकारों, साहित्य-प्रेमियों और विद्वानों के प्रति के प्रति आभार प्रकट किया।

कुछ अन्य चित्र –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *