‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा  जम्मू में ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन  

       भाषा, साहित्य, कला और संस्कृति के संरक्षण-संवर्धन के लिए तत्पर ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ दिल्ली द्वारा 09 फरवरी को के एल सहगल हॉल, जम्मू में डोगरी साहित्यकारों के सम्मान में  ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन किया गया।
बताते चलें कि 09 फरवरी को के एल सहगल हॉल, जम्मू में डोगरी साहित्यकारों के सम्मान में  ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन किया गया। उक्त अवसर पर डॉ दरख्शां अंद्राबी, चेयरपर्सन केंद्रीय वक्फ विकास परिषद्, अल्पसंख्यक मंत्रालय, भारत सरकार मुख्य अतिथि थीं। प्रो. अर्चना केसर, पूर्व अध्यक्ष डोगरी विभाग एवं पूर्व डीन जम्मू विश्वविद्यालय ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की जबकि डॉ अरविंदर सिंह अमन, सचिव कला केंद्र सोसायटी एवं अतिरिक्त सचिव जम्मू कश्मीर कला संस्कृति एवं भाषा अकैडमी विशेषातिथि थे। उक्त कार्यक्रम में ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के समन्वयक केशव मोहन पाण्डेय व वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ मनोज तिवारी कार्यक्रम में सहभागी रहे।
कार्यक्रम का शुभारम्भ अतिथियों द्वारा दीप-प्रज्ज्वलन व यशस्वी गीतकार स्व यश शर्मा  चित्र पर पुष्प-अर्पण द्वारा किया गया। इसके बाद सर्व भाषा ट्रस्ट के राष्ट्रीय शोध निदेशक व कार्यक्रम के मुख्य आयोजक श्री यशपाल निर्मल ने सभी अतिथियों का शाब्दिक स्वागत किया और कार्यक्रम के महत्त्व पर प्रकाश डाला। रचनाकार श्री राज राही की मूल डोगरी पुस्तक का यशपाल निर्मल द्वारा अनुदित ‘असली वारिस’ का लोकार्पण किया गया। लोकार्पण के बाद डा. सपना देवी ने यशपाल निर्मल के जीवन, कृत्तित्व और व्यक्तित्व पर तथा डॉ आशु शर्मा ने राज राही पर अपना शोध पत्र प्रस्तुत किया।
 ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ के समन्वयक केशव मोहन पाण्डेय व वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ मनोज तिवारी को राष्ट्रीय कवि संगम (जम्मू-कश्मीर) व जम्मू कश्मीर हिंदी अकादेमी (जम्मू-कश्मीर) की ओर से प्रथम ‘श्री यश शर्मा स्मृति सम्मान 2019’ से सम्मानित किया गया।  सम्मान के इसी क्रम में ‘सर्व भाषा’ त्रैमासिक पत्रिका में सम्पादन-सहयोग और साहित्यिक गतिविधियों के लिए श्री यशपाल निर्मल को सर्व भाषा ट्रस्ट की ओर से ‘सर्व भाषा सम्मान 2018’ दिया गया।   
कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण 14 डोगरी साहित्यकारों पर उनकी प्रथम प्रकाशित कृति क्र लिए दिया गया ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान 2018’ था।  ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान 2018’ से सम्मानित होने वाले साहित्यकार थे – ओ.पी. शाकिर, रतन भारद्वाज, केवल कुमार ‘केवल’, आशु शर्मा, कुलदीप राज शास्त्री, शीतल देवी, सुनील कुमार, ओम शर्मा ‘जन्द्रयाड़ी’, सत्यपाल गढ़बालिया, डॉ नीरू शर्मा, राजेश्वर सिंह ‘राजू’, सरोज बाला, रोशन बराल ‘रोशन’ और गंगा शर्मा।
        कार्यक्रम में डॉ नीरू शर्मा, डॉ प्रमोद शुक्ल व श्री यशपाल शर्मा को ट्रस्ट की ओर से सदस्यता सम्मान पत्र भी दिया गया।
      इस अवसर पर अपने संबोधन में मुख्यातिथि डॉ दरख्शां अंद्राबी ने ट्रस्ट की गतिविधियों की सराहना करते हुए यशपाल निर्मल के  कार्यों व योगदानों की प्रशंसा करते हुए कहीं कि इनको स्टेट अवार्ड के साथ ही अन्य और पुरस्कार जितने भी दिए जाएं कम हैं। उन्होंने  ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा आयोजित इस सम्मान समारोह के लिए कहा कि सम्मानों-पुरस्कारों से किसी भी क्षेत्र में कार्यरत व्यक्ति के कार्य में निखार आता है। उसको और अच्छा और ज्यादा काम करने का उत्साह मिलता है। प्रो. अर्चना केसर ने अपने अध्यक्षीय वक्तव्य में  ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ की कल्पना व कार्यों की प्रशंसा की। डॉ अरविंदर सिंह अमन ने अपने वक्तव्य में कहा ट्रस्ट और यशपाल निर्मल द्वारा कई झरोखों को खोलने का कार्य किया जा रहा है।
अतिथियों के वक्तव्य के पूर्व श्री केशव मोहन पाण्डेय जी, संयोजक सर्व भाषा ट्रस्ट ने ट्रस्ट की गतिविधियों पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए जम्मू कश्मीर इकाई की घोषणा की। उन्होंने  ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ के अध्यक्ष श्री अशोक लव के अध्यक्षीय भाषण को भी पढ़कर सुनाया। ट्रस्ट के वरिष्ठ उपाध्क्ष डॉ मनोज तिवारी जी ने ट्रस्ट के लक्ष्य और उद्देश्यों पर चर्चा की।
‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा आयोजित इस ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ समारोह का मंच संचालन युवा कवि रोशन बराल ‘रोशन’ ने किया और अतिथियों का विधिवत धन्यवाद हास्य-व्यंग्य के प्रसिद्द कवि श्री केवल कुमार केवल ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *