साहित्यिक संस्था ‘भोजपुरी संगम’ की आनलाइन काव्यगोष्ठी संपन्न

 

गोरखपुर।  साहित्यिक संस्था ‘भोजपुरी संगम’ से जुड़े रचनाकारों ने आनलाईन काव्यगोष्ठी करके इस सच्चाई को उस समय अंजाम तक पहुंचाया जब समूचा देश कोरोना महामारी से निपटने के लिए सोशल डिस्टेन्स का पालन कर रहा है। कहा जाता है कि मनुष्य की सोच यदि सकारात्मक है तो बड़ी से बड़ी आपदा भी उसके मार्ग का रोड़ा नहीं बन सकती। विकट से विकट परिस्थितियों से किस तरह निपटा जाए उसकी राह बनने में वक्त नहीं लगता। विगत दिवस साहित्यिक संस्था ‘भोजपुरी संगम’ से जुड़े रचनाकारों ने आनलाईन काव्यगोष्ठी करके इस सच्चाई को उस समय अंजाम तक पहुंचाया जब समूचा देश कोरोना महामारी से निपटने के लिए अपने घर की चहारदीवारी तक सिमटा हुआ है। इस महामारी से निपटने का कोई दूसरा तरीका किसी के पास नहीं है।


‘भोजपुरी संगम’ की 122 वीं ‘बइठकी’ में आनलाइन प्रतिभागी रचनाकारों में केशव मोहन पाण्डेय (नई दिल्ली), जे.पी.द्विवेदी (गाजियाबाद), ज्ञानेश्वर गुंजन (बेतिया, बिहार), शैलेन्द्र पाण्डेय असीम, (हाटा, कुशीनगर), डा.धनंजय मणि त्रिपाठी, घुघली (महराजगंज) के अलावा वरिष्ठ रचनाकारों में नरसिंह बहादुर चंद, रवीन्द्र श्रीवास्तव जुगानी भाई, वीरेन्द्र मिश्र ‘दीपक’, चन्द्रेश्वर’ परवाना’, सुभाष यादव, धर्मेंद्र त्रिपाठी, केशव पाठक ‘सृजन गोरखपुरी’, अरविन्द ‘अकेला’, डा.फूलचंद प्रसाद गुप्त, डा.कुमार नवनीत, डा.बहार गोरखपुरी, डा.अजय राय ‘अंजान’, अवधेश ’नन्द’, श्रीमती माधुरी द्विवेदी ‘मधु’ आकृति विज्ञा ‘अर्पण’, भीम प्रसाद प्रजापति, आकाश महेशपुरी, (कुशीनगर), ओम प्रकाश पाण्डेय’ आचार्य’, प्रेम नाथ मिश्र तथा ‘भोजपुरी संगम’ के संयोजक कुमार अभिनीत रहे। आनलाइन हुई इस काव्यगोष्ठी की खास बात यह रही कि इसे रचानाकारों ने दो समूह बनाकर काव्यपाठ किया। पहले समूह में कार्यक्रम की शुरुआत अरविन्द ‘अकेला’ और दूसरे समूह के कार्यक्रम की शुरुआत युवा गीतकार प्रेमनाथ मिश्र की सरस्वती वंदना से हुआ। इसी तरह प्रथम समूह के कार्यक्रम का संचालन अवधेश ‘नंद’ और अध्यक्षता वीरेन्द्र मिश्र दीपक तथा दूसरे समूह के कार्यक्रम का संचालन ज्ञानेश्वर गुंजन और अध्यक्षता वरिष्ठ गीतकार सुभाष यादव ने किया। दोनों समूहों के रचनाकारों ने अपनी रचनाओं के जरिये दुनिया के समक्ष पैदा हुए महामारी के संकट से निपटने का आह्वान किया। कार्यक्रम के अंत में संयोजक कुमार अभिनीत ने सभी रचनाकारों के प्रति आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *