‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा  जम्मू में ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन  

       भाषा, साहित्य, कला और संस्कृति के संरक्षण-संवर्धन के लिए तत्पर ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ दिल्ली द्वारा 09 फरवरी को के एल सहगल हॉल, जम्मू में डोगरी साहित्यकारों के सम्मान में  ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन किया गया। बताते चलें कि 09 फरवरी को के एल सहगल हॉल, जम्मू में डोगरी साहित्यकारों के सम्मान में  ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन किया गया। उक्त अवसर पर डॉ दरख्शां अंद्राबी, चेयरपर्सन केंद्रीय…

"‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा  जम्मू में ‘स्वामी ब्रह्मानंद तीर्थ साहित्य सम्मान’ का आयोजन  "

‘गणतंत्र दिवस काव्य-संध्या’ का सफल आयोजन

आज गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ और हर्फ़ प्रकाशन द्वारा आयोजित गणतंत्र दिवस काव्य-संध्या का सफल आयोजन किया गया। काव्य-संध्या में देश-प्रेम पर रचनाकारों ने अपनी विविध भाव-भूमि पर रचनाएँ प्रस्तुत की। 26 जनवरी को अनुसन्धान अपार्टमेंट, से-6, द्वारका, नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस काव्य-संध्या का सफल आयोजन किया गया। उक्त काव्य-संध्या की अध्यक्ष ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ अध्यक्ष श्री अशोक लव ने की जबकि कार्यक्रम में इलाहबाद से पधारे समाज-सेवी व…

"‘गणतंत्र दिवस काव्य-संध्या’ का सफल आयोजन"

भोजपुरी के पास है अपनी सामाजिक, सांस्कृतिक व आध्यात्मिक विरासत

‘भोजपुरी एसोसिएशन ऑफ इंडिया’ दिल्ली चैप्टर, मैथिली भोजपुरी अकादमी और मंगलायतन यूनिवर्सिटी के साझा प्रयास से राजधानी में ‘भोजपुरी साहित्य उत्सव 2018’ के उद्घाटन सत्र में वरिष्ठ पत्रकार ओंकारेश्वर पाण्डेय, विश्व भोजपुरी सम्मेलन के अध्यक्ष अजीत दुबे, संपादक प्रमोद कुमार, अभिनेता सत्यकाम आनंद दीप प्रज्ज्वलन कइलें आउर आपन-आपन विचार रखलें। एह अवसर पर ‘भोजपुरी एसोसिएशन ऑफ इंडिया’ दिल्ली चैप्टर के समन्वयक जलज कुमार अनुपम‌ फेस्टिवल‌ के उदेश्य बतवलन कि ई भोजपुरी भाषा के गौरवशाली इतिहास…

"भोजपुरी के पास है अपनी सामाजिक, सांस्कृतिक व आध्यात्मिक विरासत"

‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ का प्रथम वार्षिकोत्सव सम्पन्न

भाषा, साहित्य, कला और संस्कृति के संरक्षण-संवर्धन के लिए समर्पित संस्था सर्व भाषा ट्रस्ट द्वारा दिल्ली के साहित्य अकादमी सभागार में प्रथम वार्षिकोत्सव का आयोजन किया गया।अपने स्वागत भाषण में सर्व भाषा ट्रस्ट की परिकल्पना और उसकी योजनाओं पर अध्यक्ष अशोक लव ने विस्तार से चर्चा की। उन्होंने आगामी योजनाओं की भी चर्चा की। सचिव रीता मिश्रा व समन्वयक केशव मोहन पाण्डेय ने वार्षिक रिपोर्ट पढ़ी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री अजीत दुबे जी ने…

"‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ का प्रथम वार्षिकोत्सव सम्पन्न"

ऐसा मेरा प्यार

(दौहिक गीतिका) बाँध मत किसी बाँध से, रोक न मेरी धार। समय कभी सहला ज़रा, कर कठोर प्रहार।। चलना मेरा काम है, करना क्या आराम। चाहे जितना भी बढ़े, धरती का विस्तार।। कहने वाले कह रहे, मुझमे भरा घमंड। देखो दर्पण में जरा, खुद को भी तो यार।। मेरी दुनिया तुम सदा, मान या नहीं मान। मानेंगे इक दिन सभी, रहना तुम तैयार।। आँखों में तेरी छवी, मन में तेरा चित्र। साँसों का संगीत तुम,…

"ऐसा मेरा प्यार"

पूजा तेरे रूप की

(दौहिक गीतिका) चाहे कितना भी रखो, फूँक-फूँक के पाँव। बने खिलाड़ी खेलते, सारे अपना दाँव।। छल-छद्म-वैमनस्य सब, घर-घर बसते आज। शहरों से भी हो गए, खतरनाक अब गाँव।। रोटी ही जिसका खुदा, उसको क्या आराम। भूख से जब व्याकुल हुए, भूलते धूप-छाँव।। पूजा तेरे रूप की, करता मैं दिन-रात। पागल मन को प्यार में, मिलता मरहम-घाव।। मानव का है एक सच, बाकी सारा रोग। फिर भी इस संसार में, मन का नहीं लगाव।। **** केशव…

"पूजा तेरे रूप की"

उनके जैसा जगत में

सुख में दुःख में जो सदा, रखते रहते टेव। आते उनके रूप में, धरा-धाम पर देव।। नफ़रत हैं जो घोलते, दो लोगों के बीच। उनके जैसा जगत में, नहिं है कोई नीच।। मधुर-मधुर सी बात कर, चलते टेढ़ी चाल। उनके जैसा जगत में, नहिं कोई कंगाल।। बीच सभा में दे नहीं, जो खुद को सम्मान। उनके जैसा जगत में, नहीं अधम इनसान।। ** केशव मोहन पाण्डेय

"उनके जैसा जगत में"

मनचाहा मित्र

बाँध मत किसी बाँध से, रोक न मेरी धार। समय कभी सहला ज़रा, कर कठोर प्रहार।।1 जब हो जाता है कभी, भावों का अनुबंध। अजनबी से भी जुड़ता, जन्मों का संबंध।।2 चाहे करना और कुछ, हो जाता कुछ और। मानव जीवन में चला, जब भी गड़बड़ दौर।।3 जीवन बन जाता सदा, सुखद सुगंधित इत्र। मिल जाता सौभाग्य से, जो मनचाहा मित्र।।4 मेरी साँसें तुम बनो, तेरी मैं प्रतिश्वास। मेरी धड़कन जब रुके, तुमको हो आभास।।5…

"मनचाहा मित्र"

नयन बीच नित आये वर्षा

नयन बीच नित आये वर्षा काजल धो के बहाये वर्षा हर्ष-विषाद दोनों हैं साथी भाव-सुभाव स्नेह है थाती सिद्धि-असिद्धि के स्यन्दन चढ़ उमड़-घुमड़ पुनि आये वर्षा।। गरज गिरा गह्वर से निकले जैसे हिम हुलस नित पिघले गर्व राग का कर के अलाप मन के भाव जगाये वर्षा।। पीड़ा-कुंठा क्षण में बहाये स्वच्छ जीवन-राह बनाये धरा-हृदय का पूजक पागल क्षण-क्षण सरस जल जाए वर्षा।। ***** केशव मोहन पाण्डेय

"नयन बीच नित आये वर्षा"

सर्व भाषा ट्रस्ट द्वारा ‘हिन्दी दिवस समारोह’ का आयोजन

साहित्य, कला और संस्कृति के संवर्धन के लिए प्रतिबद्ध संस्था ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा 14 सितम्बर को श्री हंस सरस्वती पुस्तकालय, राजनगर पार्ट – एक, पालम, नई दिल्ली में ‘हिन्दी दिवस समारोह’ का आयोजन किया गया । यूं कहें कि उक्त कार्यक्रम से ही संस्था कि गतिविधियों की शुरुआत की गई जिसमे एक परिचर्चा व कवि-गोष्ठी का आयोजन किया गया । उक्त अवसर पर ट्रस्ट के अध्यक्ष व श्रेष्ठ साहित्यकार डॉ अशोक लव ने कार्यक्रम…

"सर्व भाषा ट्रस्ट द्वारा ‘हिन्दी दिवस समारोह’ का आयोजन"